Archive | Poetry RSS for this section

प्यार की राह पे…

संग तेरे इस राह पे मैं जाऊँगा, संग तेरे उस राह पे मैं जाऊँगा,चाह तारों की तूने जो की है अगर, तोड़ तारे फलक से मैं ले आऊंगा। चाँद सबका तो कुछ है चाहता नहीं, चाँद मेरा जो चाहे वो कर जाऊँगा,रुसवा जग ने जो तुझको किया है अगर, रुसवा सारे ज़माने को कर जाऊँगा। […]